Friday, February 25, 2011

नज्म

नज्म

आँखें हँसतीं रहीं लब मचलते रहे
नंगे पावों से राहों पे चलते रहे !

मेरी आहट पे खिलती बहारें हँसीं
फूल शाखों से राहों पे झरते रहे !

मीठी खुशबू मेरे खोये से गाँव की
जिसकी चाहत में आँसू पिघलते रहे !

मन जो रोशन हुआ जग भी रोशन हुआ
कदम बहके मगर फिर सम्भलते रहे !

अनिता निहालानी
२५ फरवरी २०११

5 comments:

  1. आपकी उम्दा प्रस्तुति कल शनिवार (26.02.2011) को "चर्चा मंच" पर प्रस्तुत की गयी है।आप आये और आकर अपने विचारों से हमे अवगत कराये......"ॐ साई राम" at http://charchamanch.uchcharan.com/
    चर्चाकार:Er. सत्यम शिवम (शनिवासरीय चर्चा)

    ReplyDelete
  2. मीठी खुशबू मेरे खोये से गाँव की
    जिसकी चाहत में आँसू पिघलते रहे ! ....


    हर शब्द में गहराई, बहुत ही बेहतरीन प्रस्तुति ।

    ReplyDelete
  3. वाकई मन रोशन हो तो जग रोशन हो ही जाता है

    ReplyDelete
  4. मीठी खुशबू मेरे खोये से गाँव की
    जिसकी चाहत में आँसू पिघलते रहे ! ....


    बहुत सुन्दर कविता लिखी है आपने .वाह..

    ReplyDelete