Sunday, May 15, 2011

श्रद्धा सुमन





श्रद्धा सुमन

दीप जला श्रद्धा का मन में
जिस क्षण हमने तुम्हें निहारा,
भाव उठा समर्पण का तब
जब से तुमने हमें पुकारा !

उठी प्रार्थना गहरे तल से
पल में जा पहुंची जो तुम तक,
डोर बंधी है एक अगोचर  
भेज रहे संदेशे हम तक !

ज्ञान की ज्योति जलाते भीतर
दुःख अग्नि पर जल बरसाते,
खुशियों की बरसात बन सदा
अंतर आंगन को महकाते !

हम सा बन के रहते हम में
खुद में स्वयं बन के रहते,
उस अदृश्य, अगम रब से मिल
सहज स्नेह ही बांटा करते !

जग सीमित पर वह अनंत है
सत्य एक है सदा अटल,
मायाधीश बड़ा माया से
निरंकार, निर्भय, निर्मल !

प्रेम तत्व से बना ईश्वर
उससे एक हुए तुम रहते,
हमें बुलाते अपने घर में
‘मुक्त हो रहो’ इतना कहते !

‘ध्यान समाधि’ से उस घर के
रस्ते से पहचान बना लो,
फिर जब चाहे जा सकते हो
जरा हृदय में उसे बसा लो !

दिल के इतने हो करीब तुम
तुमसे कुछ भी नहीं छुपा है,
हम जो भी हैं जैसे भी हैं
सदा प्रेम से हमें भरा है !
   
हो आनंद के इक निर्झर तुम
भिगो रहे निज शीतलता में,
दिव्य चेतना की हो मूरत
जगा रहे हो हमें ज्ञान में !

उसी ज्ञान में भस्म हो रहे
संस्कार अशुभ कर्मों के,
द्वन्द्वों से पूर्ण है यह जग
परे आत्मा सब धर्मों से !

सहज रहें, संघर्ष भी करें
द्वन्द्वों का हम करें सामना,
तेरी नजरों से जब देखें
सहयोग की बढ़े भावना !

हर पल तुम हो साथ हमारे
इससे बड़ा न कोई आश्रय,
घर जा पहुँचे तुमसे मिलकर
मिटी ग्लानि और सारे संशय !

अनिता निहालानी
१५ मई  २०११ 

7 comments:

  1. फाण्ट जरा बढ़ा दिजिये तो पढ़ने में आराम रहे.

    बहुत भावपूर्ण अभिव्यक्ति है.

    ReplyDelete
  2. वाह ………भावो का निर्झर दरिया बह रहा है।

    ReplyDelete
  3. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 17 - 05 - 2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    http://charchamanch.blogspot.com/

    ReplyDelete
  4. गुरुजन कहते हैं कि रोज सत्संग करना चाहिये,इस कविता को पढ़ते-पढ़ते लगा,किसी सत्संग में ही हैं,सो आज का सत्संग तो हा गया.

    ReplyDelete
  5. आप सभी का आभार ! संत जनों की कृपा से ही सत्संग मिलता है !

    ReplyDelete
  6. सुन्दर अभिव्यक्ति है

    ReplyDelete
  7. ‘ध्यान समाधि’ से उस घर के
    रस्ते से पहचान बना लो,
    फिर जब चाहे जा सकते हो
    जरा हृदय में उसे बसा लो !

    main bhi uske gahre prem mein hun..aur nit din usko jeeti hun apni har saans mein..wahee mere saath hota hai hamesha ..saaye ki tarah..! Parampita ki sharan mein hun..!

    ReplyDelete