Sunday, March 27, 2011

अनकहे गीत बड़े प्यारे हैं

अनकहे गीत बड़े प्यारे हैं


जो न छंद बद्ध हुए
बिल्कुल कुंआरे हैं
तिरते अभी नभ में   
गीत बड़े प्यारे हैं !

जो न अभी हुए मुखर
अर्थ क्या धारे हैं
ले चलें जाने किधर
 पार सिंधु उतारे हैं !

पानियों में संवरते
पी रहे गंध माटी
जी रहे ताप सहते
मौन रूप धारे हैं !

गीत गाँव की व्यथा के
भूली सी इक कथा के
गूंजते से, गुनगुनाते
अंतर संवारे हैं !

गीत जो हृदय छू लें
पल में उर पीर कहें
ले चलें अपने परों  
उस लोक से पुकारें हैं !

अनिता निहालानी
२७ मार्च २०११
 

11 comments:

  1. गीत गाँव की व्यथा के
    भूली सी इक कथा के
    गूंजते से, गुनगुनाते
    अंतर संवारे हैं !
    waah

    ReplyDelete
  2. गीत जो हृदय छू लें
    पल में उर पीर कहें
    ले चलें अपने परों
    उस लोक से पुकारें हैं !
    काव्य के माध्यम से दिल की बात कहना वाह ! बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति, बधाई

    ReplyDelete
  3. अव्यक्त की तरफ इशारा करता है गीत,उसमे न जाने क्या क्या छुपा हुआ है.समयआने पर ही फूल खिलते हैं फल पकते हैं और एक नई कविता का जन्म होता है.

    ReplyDelete
  4. आदरणीय रश्मिजी, सुनील जी तथा दीदी, आप सभी का आभार ! सही कहा है पता नहीं होता किस पल में क्या कौंधेगा भीतर जो शब्दों में व्यक्त होगा...

    ReplyDelete
  5. le chalen jane kidhar paar sindhu utaare hain .bahut sunder bhav..!!
    adbhut rachna -badhai.

    ReplyDelete
  6. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 29 -03 - 2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    http://charchamanch.blogspot.com/

    ReplyDelete
  7. जो न अभी हुए मुखर
    अर्थ क्या धारे हैं
    ले चलें जाने किधर
    पार सिंधु उतारे हैं !....

    बहुत सुन्दर एवं मर्मस्पर्शी रचना !
    शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  8. जो न छंद बद्ध हुए
    बिल्कुल कुंआरे हैं
    तिरते अभी नभ में
    गीत बड़े प्यारे हैं !
    अनिता जी, नए भावों की अनुगूँज गीत में बड़ी खूबसूरती से मुखरित हो रही है !
    साधुवाद !

    ReplyDelete
  9. Kunwaarepan ki aisi sundarata ab tak to kaheen naheen dekhi !

    ReplyDelete
  10. बहुत ही सुंदर काव्य प्रस्तुति...लाजवाब।

    ReplyDelete
  11. आप सभी का आभार !

    ReplyDelete