Friday, October 29, 2010

तुम आते नित रसधार लिये

तुम आते नित रसधार लिये
फिर तृषित रहा क्यों उर मेरा
क्यों हाथ बढ़ा छू ना सकूं
लहराता रेशम पट तेरा !

है गहन अंध घनघोर घटा
पथ बूझ नहीं पाते नैना
तुम स्नेह दीप जला रखना
यूँ बीतेगी सारी रैना !

तुम प्रियतम ! हो श्रेष्ट तुम्हीं
तुमसे ही जीवन जीवन है
जो तोड़ नहीं पाता मन वह
स्वयं डाला मैंने बंधन है !

5 comments:

  1. कुछ ऐसी मेरी छटपटाहट भी है .............. बहुत सुन्दर ... बहुत सुन्दर ..बधाई

    ReplyDelete
  2. तुम आते नित रसधार लिये
    फिर तृषित रहा क्यों उर मेरा
    क्यों हाथ बढ़ा छू ना सकूं
    लहराता रेशम पट तेरा !

    bahut sundar...

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर भाव से सजी रचना

    ReplyDelete
  4. आपकी इस पोस्ट की चर्चा कल 9/11/2015 को हिंदी चर्चा ब्लॉग पर की जाएगी ।
    चर्चा मे आपका स्वागत है ।

    ReplyDelete