Wednesday, May 2, 2012

श्रीमद्वाल्मीकिरामायणम्


श्री सीतारामाचन्द्राभ्या नमः
श्रीमद्वाल्मीकिरामायणम्
बालकाण्डम्
प्रथमः सर्गः
नारद जी का वाल्मीकि मुनि को संक्षेप से श्रीरामचरित्र सुनाना 


अपरिमित बुद्धि के स्वामी, कपि ने की प्रदक्षिणा राम की
सत्य निवेदन किया तब उनसे, छवि देखी है सीता जी की

इसके बाद सुग्रीव के सँग, राम गये थे सागर तट को  
सूर्य समान तेज बाणों से, क्षुब्ध किया महासागर को

प्रकट किया सागर ने स्वयं को, पुल निर्माण किया राम ने
उस पुल से जा पहुँचे लंका, नाश किया रावण का उनने

मिलन हुआ सीता से उनका, लज्जित हुए राम मिल उन्हें
 प्रवेश किया अग्नि में सुन के, मर्म भेदी थे वचन राम के

अग्नि के कहने पर सीता को, माना राम ने निष्कलंक
महान कर्म से इस राम के, देव, ऋषि सब हुए संतुष्ट

राम हुए पूजित देवों से, भरा पुलक से अंतर को
हो कृतार्थ अभिषिक्त किया, लंक राज्य पर विभीषण को

 दिया वानरों को पुनः जीवन, देवों से पा वर राम ने
सभी साथियों सँग चले, प्रस्थान किया पुष्पकविमान से



No comments:

Post a Comment